आईसीआईसीआई फाउण्डेशन की ऑनलाइन कार्यशाला में जाने पशुधन संरक्षण के गुर

जयपुर। एक ओर देश में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। वहीं लोग अब अपने कामकाज में आने वाली समस्याओं का निराकरण ऑनलाइन प्लेटफार्म पर आकर निपटाने में रुचि दिखाने लगे हैं। कुछ ऐसा ही नजारा बुधवार को आईसीआईसीआई फाउण्डेशन की ज्ञान चौपाल मुहिम के तहत संपन्न हुई ऑनलाइन कार्यशाला के दौरान देखने को मिली। जहां कृषि विज्ञान केन्द्र, वनस्थली टोंक के पशुधन विशेषज्ञ डा. गीतम सिंह ने जयपुर, सीकर व दौसा कलस्टर से जुड़े 46 पशुपालकों व किसानों ने भाग लेकर पशुधन संबंधित समस्याओं का समाधान पाया। डा. गीतम ने बताया कि केन्द्र व राज्य सरकार पशुधन को बढ़ावा देकर किसानों को आर्थिक मोर्चे पर मजबूत करने के लिए प्रयासरत है। जरूरत है कि किसान जागरूक हो समय रहते कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी लेकर उनसे लाभांवित हो। उन्होंने सरकार की कामधेनु योजना समेत अन्य पशुधन को बढ़ावा देने वाली सरकार की योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। साथ ही कहा कि किसान समय-समय पर अपने यहां पशुओं का बीमा करा नस्ल सुधार को अपनाएं। ताकि कम उत्पादन वाली देशी नस्ल के पशु की नस्ल सुधार कर अधिक उत्पादन देने वाली उन्नत नस्ल के पशु तैयार किए जा सके। इस दौरान किसानों को खीस का महत्व बताते हुए पशुओं के बीमार होने की अवस्था में समय पर पशु चिकित्सक से सलाह लेकर उपचार प्राप्त करने की बात कही। उन्होंने पशुओं के बीमा कराने की महत्ता को बताई और कोरोना से खुद को सुरक्षित रखते हुए अपने परिवार व आस-पास के लोगों को सावचेत करने के उपाय बताए। साथ ही किसानों से बातचीत कर उनकी समस्याओं का समाधान किया। आईसीआईसीआई फाउण्डेशन के सीकर कलस्टर प्रभारी निर्मल थेपड़ा ने बताया कि कोरोना काल में कृषि विज्ञान केन्द्र ऑनलाइन प्लेटफार्म के जरिए किसानों, पशुपालकों के बीच जाकर उनको न केवल कोरोना के प्रति जागरूक कर रहा है, वरन अपन दैनिक कामकाज के साथ पशुधन के रख-रखाव के मामले में जरूरी जानकारी भी दे रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *