Shekhawati Horse Riding School

Sirsi Road, Jaipur

9829658117

जयपुर। राजस्थान के शान भव्य किले, महल और शानदार घुड़सवार पूरे विश्व में प्रसिद्ध हैं और जयपुर की शान शेखावटी हॉर्स राइडिंग स्कूल है जहां ऐसे घुड़सवारों को प्रशिक्षण देने का श्रेय जाता है जो कि न केवल राष्ट्रीय स्तर पर अपना मुकाम हासिल कर रहे हैं बल्कि वह विश्व में आयोजित प्रतियोगिताओं में भी भाग ले रहे हैं। इस संस्थान से अनेकानेक बच्चे, युवा प्रशिक्षण लेकर ना केवल देश अपितु विदेशों में भी राजस्थान का नाम गौरवान्वित कर रहे हैं। शेखावटी हॉर्स राइडिंग स्कूल की स्थापना जयपुर में 16 फरवरी 2017 को सेना के 61 केवलरी से रिटायर होने के पश्चात श्री मदन सिंह शेखावत ने की। सेना से सेवानिवृत्त होने के पश्चात ओबरॉय संचालित नायला फोर्ट में हॉर्स ट्रेनर एवं आदित्य विद्याश्रम में बच्चों, युवाओं को हॉर्स जंपिंग, ड्रेसाज, क्रॉस कंट्री आदि सिखाने का श्रेय उन्हें जाता है। शेखावटी हॉर्स राइडिंग स्कूल सिरसी रोड पर 3 बीघा में फैला हुआ है। यहां का प्राकृतिक वातावरण शहरी जीवन से दूर शांत और एकांत है। यहां की स्वच्छ हवा में न केवल घुड़सवार बल्कि घोड़ों को भी घुड़सवार के साथ अलग ही आनंद आता है। बिना शोरगुल और एकांत वातावरण घुड़सवार को निर्भीक होकर प्रशिक्षण के लिए प्रेरित करते हैं।
शेखावटी हॉर्स राइडिंग स्कूल के संस्थापक मदन सिंह शेखावत बताते हैं कि घुड़सवार की ट्रेनिंग 30 मिनट से 1 घंटे तक की जाती है। लगभग एक साल की ट्रेनिंग के बाद बच्चे नेशनल खेलने के लिए तैयार किए जाते हैं। नेशनल खेलने के लिए दो प्रतियोगिताएं राज्य लेवल की जीतनी जरूरी हैं, इसके बाद ही घुड़सवार नेशनल लेवल की प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए चयनित किए जाते हैं। 21 वर्ष की आयु में अंतरराष्ट्रीय स्तर की घुड़सवारी में भाग लिया जा सकता है नेशनल लेवल की घुड़सवारी तीन कैटेगरी में खेली जा सकती है। फस्र्ट 10 से 12 साल कैटेगरी। सैकंड 12 से 14 साल तथा थर्ड कैटेगरी 14 से 16 साल। यंग राइडर्स 16 से 18 साल की प्रतियोगिताओं में शामिल किए जाते है। राइडिंग स्कूल में ट्रेनिंग लेकर घुड़सवार नेशनल प्रतियोगिता जीतने के बाद सेना, बीएसएफ, पैरामिलिट्री फोर्स में डायरेक्ट भर्ती के लिए भी सेलेक्ट किए जाते हैं। शेखावटी हॉर्स राइडिंग स्कूल में अच्छे प्रशिक्षक भी तैयार किए जाते हैं जिनको न केवल आर्म फोर्सेज एवं विदेशों में नौकरी करने का मौका मिलता है। शेखावटी हॉर्स राइडिंग स्कूल में 8 साल से बच्चों की ट्रेनिंग स्टार्ट की जाती है। यह बच्चों को मनोरंजन के साथ-साथ बहादुरी का जज्बा भी पैदा करती है। हॉर्स राइडिंग से बच्चों में एकाग्रता, संयम, गुस्सा कंट्रोल करना एवं एक दूसरे के हावभाव पहचानने की क्षमता तेज होती है। मदन सिंह शेखावत का मानना है कि घुड़सवारी करने से अधिकतर सवार डिप्रेशन, बीपी, डायबिटीज आदि जैसी बीमारियों से कोसों दूर रहते हैं। शेखावटी हॉर्स राइडिंग स्कूल में बेसिक ट्रेनिंग भी दो ट्रेंड घुड़सवार के साथ मिलकर दी जाती है ताकि घुड़सवार को घोड़े पर बैठने के बाद घोड़े पर भरोसा पैदा हो सके एवं साथ ही साथ घोड़े को भी यह अहसास हो सके कि मेरे ऊपर बैठे घुड़सवार में ताकत, क्षमता, संयम की कोई कमी नहीं है। शेखावटी हॉर्स राइडिंग स्कूल से घुड़सवार कई प्रतियोगिताएं जीतने में कामयाब हुए हैं। प्रिंस, कोमल राठौड़, दुष्यंत राठौर, विश्व प्रताप ने गोल्ड एवं सिल्वर मैडल हासिल कर राजस्थान का नाम ऊंचा किया है। मदन सिंह शेखावत का मानना है कि जो बच्चे घोड़े पर बैठने से, उससे गिरने पर, उसके तेज दौडऩे पर घबरा जाते थे, आज वे घोड़ों को चुटकी में काबू करने में सक्षम हो गए हैं और जंपिंग, ड्रेसाज, गैलप जैसी प्रतियोगिताएं जीतने में कामयाब हुए हैं। पृथ्वी सिंह, नायशा शेखावत, कृतिका आचार्य, करण, लक्ष्य, अभय आदि इसके उदाहरण हैं। प्रतियोगिता जीतने के बाद ना केवल बच्चों की शान में चार चांद लग जाते हैं बल्कि घोड़ों की शान भी दोगुनी हो जाती है। मदन सिंह शेखावत थोरो घोड़े के साथ-साथ मारवाड़ी घोड़े में बच्चों को ट्रेनिंग देते हैं। मदन सिंह शेखावत ने ना केवल मारवाड़ी घोड़ों को ट्रेनिंग देकर थोरो घोड़ो के बराबर बनाया है अपितु उन्होंने उस चुनौती को भी ललकारा है जिसमें उन्हें कहा गया था कि क्या मारवाड़ी हमारे थोरो घोड़ों के आगे जीत पाएंगे? आज मदन सिंह जी ने यह साबित किया है कि थोरो घोड़ों के साथ-साथ मारवाड़ी घोड़े पर भी प्रतियोगिताएं जीती जा सकती हैं बशर्ते सिखाने और सीखने वाले का जज्बा किसी से भी कम ना हो । गुलाबी नगरी जयपुर की शान शेखावटी हॉर्स राइडिंग स्कूल का एक ही मंत्र है- घोड़े की चाल, घोड़े की रास इतनी मजबूत रखो कि घोड़ा गिराने से पहले सोचे कि मेरे ऊपर घुड़सवार शेखावटी स्कूल का है।

Visited 672 times, 3 Visits today

Posted in Sports and Top Featured

Add a Review

Your Rating for this listing: